हिंदू धर्म का सामाजिक दर्शन

Social Philosophy Hinduism The_hindu_happy_family हिंदू धर्म

हिंदू धर्म सामाजिक दर्शन के प्रमुख सिद्धांतों में निम्नलिखित शामिल हैं: धर्म: धर्म एक संस्कृत शब्द है जिसके कई अर्थ हैं, लेकिन हिंदू धर्म के संदर्भ में, इसे कानून या कर्तव्य के रूप में समझा जा सकता है जो जीवन के सभी पहलुओं को नियंत्रित करता है। धर्म नियमों का एक निश्चित समूह नहीं है, … Read more

श्वेताश्वतर उपनिषद 4वें अध्याय के 19वें श्लोक

श्वेताश्वतर उपनिषद के 4वें अध्याय के 19वें श्लोक में कहा गया है: यः सर्वेषामात्मा स शिवो मे अस्तु सदाशिवो मे अस्तु सदाशिवो मे अस्तु । इसका अर्थ है: वह जो सभी आत्माओं का आत्मा है, वह मेरे लिए शिव हो, वह मेरे लिए सदाशिवो हो, वह मेरे लिए सदाशिवो हो. यह श्लोक परमात्मा के एकत्व … Read more

बृहदारण्यक उपनिषद की गहन शिक्षाएँ

Brihadaranyaka Upanishad verses 1.3.1_to_1.3.4

बृहदारण्यक उपनिषद सबसे महत्वपूर्ण उपनिषदों में से एक है इसमें वास्तविकता की प्रकृति, स्वयं और मुक्ति के मार्ग पर गहन शिक्षाओं की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है। बृहदारण्यक उपनिषद की कुछ सबसे महत्वपूर्ण शिक्षाओं में शामिल हैं:आत्मा और ब्रह्म की पहचान: उपनिषद सिखाता है कि व्यक्तिगत स्व (आत्मान) सार्वभौमिक स्व (ब्राह्मण) के समान है। इसका … Read more

कर्ता कर्म क्रिया का अर्थ

Kartha Karma Kriya कर्ता कर्म क्रिया का अर्थ

कर्ता कर्म क्रिया का अर्थ कर्ता क्रिया या क्रिया का कर्ता है और संचित परिणाम कर्म या आपके कार्यों के परिणाम के रूप में होता है। संस्कृत भाषा का एक समृद्ध इतिहास और संस्कृति है जिसमें कई दार्शनिक अवधारणाएँ हैं जो आज भी प्रासंगिक हैं। ऐसी ही एक अवधारणा है कर्ता कर्म, जिसका अनुवाद मोटे … Read more

Madeira airport private transfer 1 to 4. As of june 20, 2024 psychotherapy services are exempt from the gst/hst. What a non violent atonement reveals about scripture.