कर्ता कर्म क्रिया का अर्थ

पर Suddhavichara द्वारा प्रकाशित

Kartha Karma Kriya कर्ता कर्म क्रिया का अर्थ

कर्ता कर्म क्रिया का अर्थ

कर्ता क्रिया या क्रिया का कर्ता है और संचित परिणाम कर्म या आपके कार्यों के परिणाम के रूप में होता है।

संस्कृत भाषा का एक समृद्ध इतिहास और संस्कृति है जिसमें कई दार्शनिक अवधारणाएँ हैं जो आज भी प्रासंगिक हैं। ऐसी ही एक अवधारणा है कर्ता कर्म, जिसका अनुवाद मोटे तौर पर “कारण और प्रभाव के नियम” के रूप में किया जा सकता है। कर्ता कर्म के दर्शन में, क्रियाएं ऐसे प्रभाव पैदा करती हैं जिन्हें वर्तमान या भविष्य में देखा जा सकता है।

कर्म किसी व्यक्ति के अस्तित्व की इस और पिछली अवस्था में किए गए कार्यों का योग है, जबकि कर्म (कार्य) किसी व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक दोनों कार्यों को संदर्भित करता है। कर्म को समझने के लिए हमें पहले यह समझना होगा कि हमारे विचार, शब्द और कार्य सभी आपस में जुड़े हुए हैं।

कर्म के पीछे दर्शन यह है कि प्रत्येक क्रिया की समान और विपरीत प्रतिक्रिया होती है। कर्म का अर्थ है “क्रिया”, इसकी व्याख्या “कार्य” या “कार्य” के रूप में की जा सकती है। यह किसी व्यक्ति के इस जीवन और पिछले जन्मों के कार्यों का योग है; अच्छे कर्मों का परिणाम सकारात्मक कर्म होता है जबकि बुरे कर्मों का परिणाम नकारात्मक कर्म होता है।

अच्छी क्रिया का अर्थ है “सफाई” या “शुद्धिकरण”। इसमें सांस लेने और धर्म का पालन करने सहित कई प्रकार के योग अभ्यास शामिल हैं।

इन उपकरणों के पीछे दर्शन यह है कि शरीर पांच कोषों (आवरण) से बना है – अन्नमय, प्राणमय, मनोमय, विज्ञानमय और आनंदमय कोष। आवरण की ये पाँच परतें हमें यह सोचने पर मजबूर कर देती हैं कि हम एक ही व्यक्ति हैं लेकिन वास्तव में हम पाँच व्यक्ति हैं।

क्रिया वह सफाई प्रक्रिया है जो किसी व्यक्ति से सभी कोषों को हटा देती है और व्यक्ति को अपने वास्तविक स्व या आत्मा के संपर्क में आने में मदद करती है।